भारत में नई बाइक और कारें

वापस आने वाली है 70 साल पुरानी लैंबरेटा स्कूटर, पुराने डिज़ाइन के साथ मिलेगा बिल्कुल नया इंजन

लैंबरेटा 21वीं सदी की स्कूटर है जो 1950 में पहली बार भारत में इंट्रोड्यूस की गई थी. ऑस्ट्रेलिया की सिसका कंपनी ने इसे डिज़ाइन किया है, पुराने विंटेज स्टाइल के साथ नई टैक्नोलॉजी को पेश किया है. यह स्कूटर 3 इंजन ऑप्शन्स और कई कलर्स के साथ पेश की गई है. जानें किन बदलावों के साथ मिलेगी नई लैंबरेटा?

फोटो देखें

खास बातें

  • लैंबरेटा वी-स्पेशल स्कूटर ब्रांड को दोबारा जीवन देने के लिए पहला कदम है
  • नई लैंबरेटा स्कूटर 3 इंजन ऑप्शन और कई कलर्स के साथ पेश की गई है
  • इस स्कूटर को ऑस्ट्रेलिया की कंपनी ने बेहतरीन तरीके से डिज़ाइन किया है

दशकों से अपने क्लासिक डिज़ाइन के लिए जानी जाने वाली लैंबरेटा स्कूटर जल्द ही दोबारा भारत में एंट्री करने वाली है. 1950 में पहली बार भारत आई इस आईकॉनिक स्कूटर को 21वीं सदी में दोबारा डिज़ाइन करने वाली ऑस्ट्रेलिया की कंपनी KISKA है. ये वही कंपनी है जिसने KTM की हाल ही में अनवील हुई हुस्क्वार्ना स्वार्टपिलेन और विटपिलेन डिज़ाइन की है. वी-स्पेशल स्कूटर लैंबरेटा की 70वीं एनिवर्सरी पर पेश की गई और इसे इटली की लैंबरेटा कम्यूनिटी के साथ मिलकर बनाया गया है. यह स्कूटर विंटेज क्लासिक डिज़ाइन और लेटेस्ट टैक्नोलॉजी का बेहतरीन उदाहरण है.

lambretta v special
 

3 इंजन ऑप्शन और कई कलर्स में लॉन्च होगी लैंबरेटा वी-स्पेशल

कंपनी इस स्कूटर को कई कलर ऑप्शन और V50, V125 और VS200 मॉडल्स में रेश की गई. V50 में 49.5 cc का 4 स्ट्रोक एयर-कूल्ड इंजन लगा है. यह इंजन 3.5 bhp पावर जनरेट करता है और इसकी टॉप स्पीड 45 km/h है. V125 स्कूटर में 124.7 cc का इंजन लगा है जो 10 bhp पावर और 9.2 Nm टॉर्क जनरेट करता है. VS200 मॉडल में 169 cc का पावरफुल इंजन लगा है जो 12 bhp पावर और 12.5 Nm टॉर्क जनरेट करता है. V50 के साथ ड्रम ब्रेक और बाकी दोनों मॉडल्स में दोनो साइड डिस्क ब्रेक्स दिए गए हैं.

lambretta v special
 

1950 में भारत में बनी थी पहली लैंबरेटा

0 Comments

लैंबरेटा की भारत में कहानी काफी लंबी है, लेकिन इसकी कहानी इटली के मिलान ये शुरू होती है. भारत में ऑटोमोबाइल प्रोडक्ट्स ऑफ इंडिया ने 1950 में पहली बार लैंबरेटा का प्रोडक्शन शुरू हुआ. 1970 में लैंबरेटा ब्रांड की री-ब्रांडिंग की गई और इसे भारत में एमएसी और लैंबी नाम दिया गया. घटती मांग और मंदी के बाद 1980 में इस स्कूटर का प्रोडक्शन बंद कर दिया गया.

Be the first one to comment
Thanks for the comments.