भारत में नई बाइक और कारें

कारएंडबाइक जांच: क्या सैनिटाइज़र के इस्तेमाल से कार में आग लगने का ख़तरा है?

language dropdown

विशेषज्ञों के अनुसार, अल्कोहॉल-आधारित हाथ सैनिटाइज़र ज्वलनशील होते हैं, लेकिन तुरंत आग लगा पाने में सक्षम नहीं हैं.

expand फोटो देखें
300 डिग्री सेल्सियस के तापमान के उपर ही आग लगने का ख़तरा होगा.

आजकल सोशल मीडिया पर एक कार के दरवाजे के जले हुए आंतरिक पैनल की तस्वीर पोस्ट की जा रही है, जिसमें दावा किया गया है कि ऊंचे तापमान के चलते कार में रखी हैंड सैनिटाइज़र की एक बोतल फट गई थी. पोस्ट में लोगों को अपनी कारों में हैंड सैनिटाइटर छोड़ने के बारे में सावधान रहने की चेतावनी दी गई, क्योंकि दावा यह किया गया कि अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र से कार में आग लग सकती है. दावों को कुछ हद तक मान्यता भी मिली क्योंकि अमेरिका में एक स्थानीय अग्निशमन विभाग ने भी उसी तस्वीर के साथ इसी तरह की चेतावनी साझा की थी जो वायरल हो गई.

fbrovfqs

आग लगने का दावा करने वाली संस्था ने माफी मांगते हुए सोशल मीडिया पोस्ट को हटा दिया है

लेकिन अब यह पता चला है कि भले ही अल्कोहल-आधारित सैनिटाइज़र ज्वलनशील हैं, वह आग लगाने में सक्षम नहीं हैं. अमेरिका के विस्कॉन्सिन में वेस्टर्न लेक फायर डिस्ट्रिक्ट, जिसने फेसबुक पर पोस्ट को शेयर किया था, उसने माफी मांगते हुए पोस्ट को हटा दिया है. भारत में भी, व्हाट्सएप पर ऐसे कई पोस्ट साझा किए जा रहे हैं जहां इसी तरह के दावे किए जा रहे हैं कि गर्मी में कार के अंदर हैंड सैनिटाइटर की एक बोतल छोड़ने से आग लग सकती है, लेकिन यह सच नहीं है.

0 Comments

टोरंटो फायर सर्विसेज ने भी एक ट्वीट किया जिसमें कहा गया कि गर्म वाहन में हैंड सैनिटाइज़र छोड़ देने पर विस्फोट नहीं होगा. हालांकि यह ज़रूर कहा गया कि कंटेनर को सीधा रखें ताकि कुछ लीक न हो. अमरीका की नेशनल फायर प्रोटेक्शन एसोसिएशन के हिसाब से ज्वलनशील वस्तु को आग लगाने के लिए लगभग 300 डिग्री सेल्सियस के तापमान की आवश्यकता होगी जो एक गर्म कार में नहीं हो पाएगा.

लेटेस्ट न्यूज़