carandbike logo

2024 के अंत तक भारत ने ऑटो उद्योग में ₹ 15 लाख करोड़ के कारोबार का लक्ष्य रखा: नितिन गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि भारत अपने ऑटो उद्योग का आकार दोगुना करना चाहता है. 2024 के अंत तक ₹7.5 लाख करोड़ से ₹15 लाख करोड़ करने के साथ हमारा उद्देश्य भारत के ऑटो उद्योग को दुनिया में सबसे बड़ा बनाना है.

2024 के अंत तक भारत ने ऑटो उद्योग में ₹ 15 लाख करोड़ के कारोबार का लक्ष्य रखा: नितिन गडकरी expand फोटो देखें

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री, नितिन गडकरी ने हाल ही में कहा था कि भारत सरकार देश के ऑटो उद्योग के आकार को दोगुना कर 2024 कैलेंडर वर्ष के अंत तक ₹15 लाख करोड़ का कारोबार बनाएगी. मर्चेंट्स चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के एक आभासी सत्र के दौरान बोलते हुए, गडकरी ने कहा, “वर्तमान में हमारा ऑटोमोबाइल उद्योग ₹7.5 लाख करोड़ का है और हम इसे 2024 के अंत तक ₹15 लाख करोड़ तक ले जाना चाहते हैं, जिससे यह सबसे बड़ा उद्योग बन जाए. दुनिया में वाहन निर्माता रोजगार के बड़े अवसर पैदा कर रहे हैं.”

यह भी पढ़ें: नितिन गडकरी का वादा, नए ग्रीन एक्सप्रेस-वे के जरिये मुंबई-बेंगलुरु का सफर सिर्फ 5 घंटे में होगा तय

अपने भाषण में नितिन गडकरी ने कहा कि उनका मंत्रालय 2023 में ₹5 लाख करोड़ की परियोजनाओं को आगे बढ़ाएगा, जबकि  ₹2 लाख करोड़ भारत सरकार से आएंगे, बाकी रकम पूंजी बाजार से जुटाई जाएगी.

Carनितिन गडकरी का कहना है कि इसका उद्देश्य भारत के ऑटो उद्योग को दुनिया में सबसे बड़ा बनाना है

गडकरी ने इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट (इनविट) की लिस्टिंग की सफलता के बारे में बात की, जिसने निवेशकों से बड़ी दिलचस्पी दिखाई. यह म्युचुअल फंड के समान एक सामूहिक निवेश योजना है, जो इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं में व्यक्तिगत और संस्थागत निवेशकों से आय का एक छोटा हिस्सा रिटर्न के रूप में अर्जित करने के लिए प्रत्यक्ष निवेश को सक्षम बनाता है. उन्होंने कहा, "छोटे निवेशकों को 8 फीसदी रिटर्न मिल रहा है, जो बैंकों से बेहतर है. हमें फंडिंग की कोई समस्या नहीं है. अगले साल हम ₹5 लाख करोड़ का काम करेंगे." अपने मंत्रालय द्वारा निवेश के बारे में बात करते हुए कहा.

उन्होंने यह भी कहा कि 2030 तक देश में अधिकांश वाहन वैकल्पिक ईंधन पर चलेंगे. ग्रीन हाइड्रोजन को भविष्य का ईंधन बताते हुए नितिन गडकरी ने कहा, "हम बायो-इथेनॉल, बायो-सीएनजी, बायो-एलएनजी और ग्रीन हाइड्रोजन जैसे वैकल्पिक, स्वच्छ और हरित ईंधन विकसित करने पर भी काम कर रहे हैं."

Toyotaगडकरी का कहना है कि 2030 तक देश में अधिकांश वाहन वैकल्पिक ईंधन पर चलेंगे

मंत्री ने प्लास्टिक, रबर और अन्य जैसे रिसाइकिल की जाने वाली सामग्री के अधिक से अधिक उपयोग के साथ बेहतर गुणवत्ता के साथ निर्माण की लागत को कम करने पर अपना ध्यान केंद्रित करने के बारे में भी बात की. गडकरी ने कहा कि ये प्रोडक्ट सीमेंट और स्टील के कम उपयोग के साथ लागत में कमी की पेशकश करेंगे. मंत्री ने कहा कि विकास के दर्शन के साथ भारत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) 2030 को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा.

आप जिसमें इंटरेस्टेड हो

नाइ कार मॉडल्स

Be the first one to comment
Thanks for the comments.