भारत में नई बाइक और कारें

क्या भारतीय रेल नई कारों को पहुंचाने का पसंदीदा तरीका बन रही है?

language dropdown

अगले वित्त वर्ष तक ऑटोमोटिव लॉजिस्टिक्स में रेलवे की अपनी हिस्सेदारी 20 फीसदी तक पहुंताने की कोशिश है. साथ ही वह हर साल 10 प्रतिशत की वृद्धि हासिल करने की उम्मीद कर रही है.

महिंद्रा ने हाल ही में रेल परिवहन का उपयोग करके अपने वाहनों को बांग्लादेश निर्यात किया. expand फोटो देखें
महिंद्रा ने हाल ही में रेल परिवहन का उपयोग करके अपने वाहनों को बांग्लादेश निर्यात किया.

रेल परिवहन भारतीय मोटर वाहन उद्योग के लिए एक बहुत ही कारगर विकल्प बन रहा है. हाल के दिनों में कई कपंनियों ने कारख़ानों से गाड़ियां भेजने के लिए भारतीय रेल को चुना है. इससे पहले वाहनों को मुख्य रूप से ट्रकों द्वारा देश के हर हिस्से में भेजा जाता था और इसके कारण काफी देरी भी होती थी, जिसकी वजह थी ट्रक ख़राब होना या ज़्यादा ट्रैफिक. वहीं रेल से गाड़ियों को भेजना काफी बचत कराता है, जिसमें  ईंधन की बचत और CO2 उत्सर्जन की कमी है. रेलवे अगले वित्तीय वर्ष तक ऑटोमोटिव लॉजिस्टिक्स में 20 प्रतिशत की हिस्सेदारी पर नजर बनाए हुए है. साथ ही हर साल 10 प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल करने की उम्मीद भी है.

k1i03mdo

मारुति सुजुकी इंडिया ने तो 2014 में वाहनों को भेजने के लिए रेलवे का उपयोग शुरू किया था. 

कई ऑटोमोबाइल निर्माता पहले से ही परिवहन के इस तरीके का उपयोग कर रहे हैं, महिंद्रा ने हाल ही में, रेल परिवहन का उपयोग करके अपने वाहनों को बांग्लादेश निर्यात करने के लिए इस सेवा का लाभ लिया. मारुति सुजुकी इंडिया ने तो 2014 में वाहनों को भेजने के लिए रेलवे का उपयोग शुरू किया था और तब से कंपनी ने 1 लाख से अधिक ट्रक यात्राएं और 100 मिलियन लीटर ईंधन की बचत की है. उच्च क्षमता और  नए डिजाइन वाले डबल डेक रेक को तैनात करके कंपनी ने वित्त वर्ष 2019-20 में भारतीय रेलवे के माध्यम से 1.78 लाख से अधिक कारों की बिक्री की, जो पिछले वर्ष की तुलना में 15 प्रतिशत अधिक है. यह कार निर्माता द्वारा वर्ष में दर्ज की गई कुल बिक्री का लगभग 12 प्रतिशत है.

Newsbeep

यह भी पढ़ें: मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर 190 साल पुराना अमृतांजन पुल गिराया गया

8t47c7ko

किआ मोटर्स इंडिया ने भी अब तक 5000 से अधिक कारों के परिवहन के लिए रेलवे का उपयोग किया है.

0 Comments

ह्यून्दे इंडिया भी 1999 से रेलवे नेटवर्क का उपयोग कर रही है, लेकिन 2013 के बाद से इस काम में तेज़ी आई. कंपनी के प्लांट में बनाई गई कुल 10 प्रतिशत कारें रेलवे के माध्यम से भेजी जाती हैं.

आप जिसमें इंटरेस्टेड हो

नाइ कार मॉडल्स

निसान मैग्नाइट

एसयूवी, 17.7 - 20 Kmpl
निसान मैग्नाइट
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 4.99 लाख
emi स्टार्टस
₹ 10,358 9% / 5 yrs

टोयोटा इनोवा क्रिस्टा

एमयूवी, 10.75 - 15.1 Kmpl
टोयोटा इनोवा क्रिस्टा
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 16.26 लाख
emi स्टार्टस
₹ 33,753 9% / 5 yrs

ह्युंडई आई20

हैचबैक, 0 Kmpl
ह्युंडई आई20
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 6.8 लाख
emi स्टार्टस
₹ 14,114 9% / 5 yrs
बीएमडब्ल्यू एक्स3 एम
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 1 करोड़
emi स्टार्टस
₹ 2,07,376 9% / 5 yrs
लैंड रोवर डिफेंडर
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 73.98 लाख
emi स्टार्टस
₹ 1,53,570 9% / 5 yrs
बीएमडब्ल्यू 2 सीरीज़ ग्रैन कूपे
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 39.3 लाख
emi स्टार्टस
₹ 81,580 9% / 5 yrs
मर्सिडीज़-बेंज़ ईक्यूसी
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 1 करोड़
emi स्टार्टस
₹ 2,06,130 9% / 5 yrs

एमजी ग्लॉस्टर

एसयूवी, 12.35 Kmpl
एमजी ग्लॉस्टर
एक्स-शोरूम प्राइस
₹ 28.98 लाख
emi स्टार्टस
₹ 60,158 9% / 5 yrs
Be the first one to comment
Thanks for the comments.