carandbike logo

किआ सोनेट रिव्यू: 1.0 टर्बो पेट्रोल और 1.5 डीज़ल की टेस्ट ड्राइव

किआ सोनेट आख़िरकार आ गई है. सिद्धार्थ ने सेगमेंट में पहली बार देखे जाने वाले डीज़ल ऑटोमैटिक और नए टर्बो पेट्रोल आईएमटी वेरिएंट्स को चलाया है.

किआ सोनेट की कीमतों का ऐलान 18 सितंबर, 2020 को किया जाएगा expand फोटो देखें
किआ सोनेट की कीमतों का ऐलान 18 सितंबर, 2020 को किया जाएगा

बाज़ार में आने से पहले किआ सोनट ने काफी चर्चा बटोरी है. यह बेशक 2020 के सबसे बड़े कार लॉन्च में से एक है. और हाँ यह एक ऐसे सेगमेंट में आ रही है जिसमें 5 मजबूत खिलाड़ियों के साथ पहले से काफी भीड़ है. लेकिन किआ में 'आश्चर्य करने की शक्ति' है, है ना? और पिछले साल सेल्टोस के रिव्यू को ध्यान में रखते हुए मैंने नई किआ सोनट को काफी भीगे हुए मौसम में चलाया है! तो चलिए कारों को चलाना शुरु करते हैं. पहले वो जिसे ड्राइव करने का मैं बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था, डीज़ल ऑटोमैटिक. ध्यान रखें कि 1.5-लीटर CRDi (कॉमन रेल डीज़ल) इंजन के दो रुप हैं, डब्ल्यूजीटी और वीजीटी. डब्ल्यूजीटी मैनुअल पर है, यह आपको 99 बीएचपी ताकत देता है, और वीजीटी (जो मैं चला रहा हूं) आपको 113 बीएचपी देता है. तो यह थोड़ा शक्तिशाली है, और आपको 10 एनएम फालतू पीक टॉर्क भी देता है. यह वही इंजन है जो डीज़ल सेल्टोस में जाता है.

यह भी पढ़ें: किया सोनट का उत्पादन हुआ शुरू; कंपनी के प्लांट से सबसे पहली कार निकली

डीज़ल ऑटो की ड्राइव

q6bpji4oमैंने पहले डीज़ल ऑटो वेरिएंट चलाया और इंजन को उत्सुक पाया, डीज़ल ऑटोमैटिक होना एक मास्टरस्ट्रोक है. 

टॉर्क का तुरंत एहसास हो जाता है - एक चरित्र है जिसे यह टर्बो पेट्रोल के साथ साझा करता है, लेकिन मैं उस पर थोड़ा बाद में आऊंगा. डीज़ल इंजन मज़ेदार है, लैग को अच्छी तरह से छुपा लेता है, और अच्छी तरह से 6-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ मेल खाता है. डीज़ल के साथ टॉर्क कन्वर्टर ऑटो होना अपने आप में एक मास्टरस्ट्रोक है. बहुत से लोग एक डीज़ल की तेज़ी से प्यार करते हैं लेकिन उन्हे सिर्फ एएमटी या मैनुअल से संतुष्ट होना पड़ता है - या फिर ऑटोमैटिक की सुविधा का आनंद लेने के लिए पेट्रोल को चुनना पड़ता है. लेकिन अब नहीं!

यह भी पढ़ें: 18 सितंबर को लॉन्च के बाद तुरंत शुरू होगी नई किआ सोनेट की डिलिवरी, उत्पादन जारी

jkh33j9oडीज़ल इंजन के साथ ऑटोमैटिक गियरबॉक्स की पेशकश करने वाली किआ सोनट सेगमेंट की पहली कार है. 

मैं महिंद्रा XUV300 और ह्यून्दे वेन्यू में भी यही चीज़ देखना चाहूंगा. और यह कोई पुराने ज़माने का 4-स्पीड गियरबॉक्स नहीं है जो लागत को बचाने के लिए लगाया गया है! यह एक आधुनिक 6-स्पीड टॉर्क कन्वर्टर है और इसलिए यह बहुत अधिक संतोषजनक है. यहां गियर तेज़ी से बदलते हैं; और आपको बढ़िया प्रतिक्रिया मिलती है, जब आपको चाहें. डीज़ल ताकतवर है और मेरी राय में काफी ख़रीदार इसकी तरफ जाएंगे. अगर कीमत अच्छी हुई तो ऑटोमैटिक की तरफ भी.

Newsbeep

यह भी पढ़ें: किआ सोनेट सबकॉम्पैक्ट SUV के लॉन्च की तारीख़ का हुआ खुलासा

सवारी और हैंडलिंग

877qgsckकिआ सोनट के मुढ़ने पर कुछ बॉडी रोल महसूस होता है, सवारी भारतीय सड़कों के हिसाब से अच्छी है. 

अब जब आप पहली बार किआ सोनेट को चलाना शुरू करेंगे, तो यह आपको सीधे एसयूवी का एहसास दिलाएगी. ख़रीदार यह बात पसंद करने वाले हैं. यह लंबी लगती है, आपको लगभग अतिरिक्त ऊंचाई देती है और ड्राइवर की सीट से सड़क का नज़ारा साफ दिखता है - यह सभी बहुत स्पष्ट एसयूवी की विशेषताएँ हैं. नुकसान यह है कि कुछ हद तक कार की हैंडलिंग में कमी लगती है. इसलिए कोनों और मोड़ पर आप कुछ बॉडी रोल महसूस करते हैं. अब अगर आप एक बहुत स्पोर्टी कार चाहते हैं, तो ऊपर बताई गई दो कारें यह काम बेहतर करेंगी.

यह भी पढ़ें: किआ सोनट सबकॉम्पैक्ट एसयूवी के माईलेज की जानकारी हुई लीक

fh2gscisडीज़ल ऑटो वैरिएंट ने मुझे अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया. 

लेकिन सोनेट के पास एसयूवी-जैसे चरित्र और प्रदर्शन का अच्छा संतुलन है. सवारी का आराम भी बहुत अच्छा है, और सस्पेंशन भारत की सड़कों की स्थिति के अनुकूल है. हालांकि स्टीयरिंग पहुंच के लिए सेट होनी चाहिए थी और न केवल ऊंचाई के लिए. हां ड्राइवर सीट की ऊंचाई और कुल मिलाकर तालमेल अच्छा है.

तो डीजल हो गया; अब पेट्रोल की जांच करने का समय है. किआ ने मुझे चलाने करने के लिए 1.2 पेट्रोल नहीं, केवल ज़्यादा आधुनिक और ताकतवर 3-सिलेंडर 1.0 टर्बो जीडीआई दिया.

टर्बो पेट्रोल आईएमटी रोड टेस्ट

echr6tfsसोनेट पर 1.0 GDi इंजन को IMT या 7-स्पीड DCT मिलता है, यहां पर कोई मैनुअल नहीं है. 

तेज़, मज़दार, ऊर्जा से भरा हुआ और बेशुमार टॉर्क. 1.0 टर्बो निराश नहीं करता. हालांकि डीज़ल की तरह ही कार खराब रास्तों पर हल्की सी उछलती है, लेकिन कुल मिलाकर सवारी और हैंडलिंग से आपको शिकायत नही होगी. ह्यून्दे वेन्यू, ग्रैंड आई 10 नियॉस, ऑरा और वर्ना के टर्बो वेरिएंट पर भी आपको यही इंजन मिलेगा, वहाँ भी स्पोर्टी पर्फोरमेंस पर ध्यान दिया गया है. यह इंजन निश्चित रूप से डीज़ल से ज़्यादा स्पोर्टी महसूस होता है, और 7-स्पीड डीसीटी गियर बदलने में और तेज़ होगा. लेकिन मुझे इस बात की खुशी है कि मैंने नए आईएमटी या इंटेलिजेंट मैनुअल ट्रांशमिशन को चलाया. बिना कल्च दबाए गियर बदलने की आदत डलने में कुछ मिनट लगते हैं! लेकिन एक बार जब आप इसको समझ जाते हैं, तो ड्राइव मज़ेदार और आसान हो जाती है. निश्चित रूप से इस दौरान यह मदद करता है कि कार आपको चेतावनी बीप देकर गियर कम करने के लिए कहती है. इस तरह इंजन कभी बंद नही होता. यह कुछ ऐसा है जो मैंने आपको अपने ह्यून्दे वेन्यू आईएमटी के रिव्यू में दिखाया था. यही तकनीक है और इसी तरह काम करती है.

यह भी पढ़ें: पहले ही दिन किआ सोनट सबकॉमपैक्ट एसयूवी को मिली 6,523 बुकिंग, बना रिकॉर्ड

af7s9lnkह्यून्दे वेन्यू, ग्रैंड आई 10 नियॉस, ऑरा और वर्ना के टर्बो वेरिएंट पर भी यही 1.0 जीडीआई इंजन है.

इसलिए यदि आप आईएमटी के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि वेन्यू आईएमटी का रिव्यू पढ़ें. आईएमटी लाने का यह पूरा विचार किआ और ह्यून्दे के लिए एक समझदार कदम साबित हो सकता है. यदि यह चलन में आ जाता है, तो अन्य निर्माताओं को कुछ इसी तरह की पेशकश करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा क्योंकि यह थकान को दूर करता है, और फिर भी आपको नियंत्रण को बनाए रखने देता है, जो मैनुअल ड्राइविंग का मजेदार हिससा है. तो, इसमे क्या नही है पसंद करने को? एक बार जब आप इसे चलाना शुरू कर दें, तो शायद कभी भी एक नियमित मैनुअल पर वापस नहीं जाना चाहेंगे. IMT को समझने और इस्तेमाल करने में देर नही लगती, यह आमतौर पर देखे जाने वाले मैनुअल से ज़्यादा मजेदार है. निश्चित रूप से कार लाइनअप में इसको जोड़कर सही किया गया है. यह दिलेरी है कि किआ केवल 1.0 जीडीआई पर आईएमटी ला रही है, मैनुअल पर नहीं. हां 1.2-लीटर पेट्रोल में 5-स्पीड मैनुअल है, और इस इंजन पर यही अकेला विकल्प है.

सुरक्षा

3i9drr24सबसे महंगे GTX + वैरिएंट में 6 एयरबैग और अगले पार्किंग सेंसर हैं, साथ ही ISOFIX सीट माउंट्स भी हैं. 

सोनेट में दो एयरबैग, एबीएस (एंटी-लॉक ब्रेक) और रियर पार्किंग सेंसर स्टैंडर्ड तौर पर दिए गए हैं. ईएससी (इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल) जैसे कुछ और सुरक्षा फीचर  हैं जो केवल ऊंचे वेरिएंट्स पर हैं. और कुछ केवल जीटीएक्स + पर हैं, जैसे 6 एयरबैग और अगले पार्किंग सेंसर. इमरजेंसी स्टॉप ब्रेक लाइट पाने वाली सोनेट सेगमेंट की पहली कार बन गई है. यदि आप तेज़ रफ्तार पर जोर से ब्रेक मारते हैं, तो ब्रेक लाइट तेजी से चमकती है ताकि आपके पीछे वाली कार के चालक को आपातकालीन स्टॉप दिखाई दे. सोनट कुल मिलाकर फीचर्स से भरी हुई है लेकिन अजीब है कि 6 एयरबैग का विकल्प केवल GTX + पर है. इसलिए यदि आप हल्के रंग का कैबिन चाहते हैं, जैसे कि HTX + ट्रिम, तो वहां आपको यह नही मिलेंगे. रिवर्स कैमरा HTK + ट्रिम से शुरू होता है.

डिज़ाइन

jpr40l6हमारे पास नीली रंग की सॉनेट जीटी-लाइन की थी और टेक-लाइन वाला मॉडल लाल था.  

मुझे खुशी है कि मेरी दोनों टेस्ट कारें उन दो ट्रिम्स में तैयार हैं जो आप सोनट पर पा सकते हैं. डीज़ल ऑटो जीटी-लाइन के सबसे महंगे वेरिएंट - जीटीएक्स + में है, जबकि टेक-लाइन का सबसे ऊंचा एचटीएक्स + वेरिएंट है. लाल रंग की कार टेक-लाइन है, और इसमें वैकल्पिक दो-टोन छत है. यह दो-टोन केवल लाल, सोने और सफेद पेंट पर संभव है. नीली कार जीटी-लाइन है, और सीधे आप देख सकते हैं कि इसका चेहरा कितना अलग है. बम्पर का आकार और इसके कुछ तत्व टेक लाइन से काफी अलग हैं. चमकदार काली टाइगर-नोज़ ग्रिल पर लाल रंग का इस्तेमाल है, बम्पर पर लाल पट्टी है, ब्रेक कॉलिपर्स लाल है और व्हील हब पर किआ लोगो भी पर लाल घेरे में है. लाल तत्व साइड और पीछे भी दिखता हैं. जीटी-लाइन ज़्यादा आक्रामक और स्पोर्टी दिखती है, यह तो पक्का है.

ilqac4hcसॉनेट के 'इंटेलिजेंस ब्लू' जीटी-लाइन ट्रिम पर लाल रंग का इस्तेमाल अच्छा लगता है. 

डेटाइम रनिंग लाइट्स (डीआरएल) और टेललाइट्स जैसे आधुनिक फीचर किआ का सिग्नेचर हॉर्टबीट रूप दर्शाते हैं. कार तेज़ और स्टाइलिश दिखती है और निश्चित रूप से लोग इसको दुबारा मुड़ कर देखेंगे. बोनट काफी बोल्ड है, और इसका रुख निश्चित रूप से एसयूवी जैसा ही है! मुझे नीला रंग बेहतर लगा! लेकिन गोल्ड सोनेट में जोड़ा गया नया रंग है. बाकी सेल्टोस जैसे ही हैं. कार को 392 लीटर का सेगमेंट में सबसे बड़ा बूट मिलता है.

कैबिन

9vf0g94sकिआ सोनट को एक साफ डैशबोर्ड के साथ इंटीरियर मिलता है जो फीचर्स से भरा हुआ है. 

अंदर सोनट बड़ी दिखाई देती है और जगह का अच्छा एहसास है. जीटी-लाइन आपको सीटों और डैशबोर्ड पर लाल सिलाई के साथ काला केबिन देगा. टेक-लाइन में चार रंगों के विकल्प हैं, जिसमें दो-टोन डैश के साथ एक हल्का शेड शामिल है.

u8d6r088किआ सेगमेंट में सबसे बढ़िया लेगरूम और अगली सीट पर हेड रूम का दावा कर रही है.  

पीछे की सीट थोड़ी ऊंची है, जो उस एसयूवी के एहसास के लिए अच्छा है, और यह कार में आना जाना भी आसान बनाती है. लेकिन थाई सपोर्ट सबसे अच्छा नहीं है. फिर भी कार की साईज़ को देखते हुए हेडरूम और लेगरूम ठीक है. किआ सेगमेंट में सबसे बढ़िया लेगरूम और अगली सीट पर हेड रूम का दावा कर रही है. पिछली सीट पर USB चार्जिंग पॉइंट और AC वेंट स्टेंडर्ड हैं. दो बेस वेरिएंट्स में मैनुअल ऐसी मिलता है जबकि बाकी सब में क्लाईमेट कंट्रोल दिया गया है. दरवाज़े में छतरी रखने की भी जगह है, और छोटे सामान रखने के लिए बहुत सारे विकल्प हैं.

तकनीक

jm7g9i2kसोनेट में 10.25 इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम सेगमेंट में सबसे बड़ा है. 

जैसा कि मैंने बताया कि इस कार में कुछ फीचर्स हैं जो सेगमेंट में पहली बार देखे गए हैं, और कुछ इससे आगे भी. ऊँचे वेरिएंट में, आपको एक बड़ी 10.25 टचस्क्रीन मिलती है, जिसमें कनेक्टिविटी, मनोरंजन और नेविगेशन फ़ंक्शन शामिल हैं. 10.25 इंच की टचस्क्रीन केवल GTX + और HTX + पर है. बीच के दो वेरिएंट्स में 8 इंच की स्क्रीन मिलती है और सबसे सस्ते दो वेरिएंट्स में केवल 2-DIN साउंड सिस्टम दिया गया है. स्टीयरिंग माउंटेड कंट्रोल हैं और हाँ आप कार के ऑन बोर्ड असिस्टेंट से भी बात कर सकते हैं. तो बस "हैलो किआ" कहें और कई चीज़े करें. इसमें ट्रिप रीडिंग जानना, ड्राइवर की खिड़की खोलना या बंद करना, क्लाइमेट कंट्रोल तापमान या पंखे को सेट करना या किसी किसी जगह की खोज़ करना सब शामिल है. उस स्क्रीन में एपप्ल कारप्ले, एंडरॉइड ऑटो और किआ का UVO टेलीमैटिक्स ऐप-आधारित समाधान भी है.

4ghp09gsकार को हवादार सीटें, बोस ऑडियो सिस्टम और वायरस सुरक्षा वाला एयर प्युरिफायर मिलता है. 

सैगमेंट में पहली बार देखे जा रहे फीचर्स में बोस प्रीमियम सराउंड साउंड सिस्टम, एक वायरलेस कार चार्जर जिसके साथ फोन कूलिंग विकल्प है और हवादार अगली सीटें शामिल हैं. जबकि वेन्यू में भी एयर प्यूरीफायर था, किआ का कहना है कि सोनेट का एयर प्यूरीफायर वायरस से सुरक्षा देता है - और इसका किसी भी कार में दुनिया में सबसे पहले होने का दावा किया गया है. बेशक इनमें से काफी कुछ आपको सबसे ऊंचे वेरिएंट पर ही मिलेगा. अब आप ब्लूटूथ का उपयोग करके सिस्टम से 2 फोन कनेक्ट कर सकते हैं - मसलन आप एक का इस्तेमाल मनोरंजन के लिए और दूसरे का कनेक्टिविटी के लिए कर सकते हैं. लेकिन हमें दोनों को एक साथ कनेक्ट करने में परेशानी हुई. स्टियरिंग के पीछे एक स्मार्ट 4.2 इंच की स्क्रीन है जो आपको टायर के दबाव से लेकर यात्रा की जानकारी तक सब कुछ बताती है. बेस वेरिएंट पर यह एक मोनोक्रोमैटिक स्क्रीन है.

कनेक्टेड कार

bl8fritoयूवो कनेक्ट एक सिम कार्ड का उपयोग करके क्लाउड या इंटरनेट का उपयोग करता है. 

कार से बाहर रहते हुए भी किआ का यूवो कनेक्ट आपको स्मार्टफोन से कुछ कार्यों को करने देता है (मसलन दरवाज़े / बूट को लॉक करना / खोलना, इंजन / ऐसी चालू करना आदि), और यह बचे हुए इंधन या ड्राइविंग रेंज जैसी जानकारी भी देता है. सेल्टोस या वेन्यू से अलग, सोनेट का रिमोट स्टार्ट केवल ऑटोमैटिक ही नहीं, मैनुअल पर भी काम करता है. सोनेट के UVO कनेक्ट ऐप टेलीमैटिक्स का उपयोग आपको जियो फेंस से लेकर बची ड्राइविंग रेंज जानने तक काफी कुछ करने देता है. जो हमने सेल्टोस और ह्यून्दे के कनेक्टिड मॉडलों पर देखा है, यह वैसा ही है. इन-बिल्ट सिम कार्ड का उपयोग कर कार क्लाउड या इंटरनेट से जुड़ जाती है, और सेल्टोस की तरह कार खरीदने के पहले 3 वर्षों के लिए डेटा प्लान मुफ्त है.

5qd5nfusचाबी की मदद से, कार के बाहर से ऐसी और इंजन चालू कर सकते हैं.

एक और फंक्शन है, जो सॉनेट में दिया गया है- जिसका ऐप या इंटरनेट कनेक्टिविटी से लेना देना नही है. यदि आप इंजन शुरू करके एयर कंडीशनिंग चलाने के लिए अपने फोन पर यूवो कनेक्ट ऐप का उपयोग नहीं करना चाहते हैं, तो आप कार की चाबी का उपयोग कर सकते हैं. बीच वाले बटन को लंबा दबाइए और यह काम हो जाएगा. चाबी का यह फीचर 3 ऊंटे वेरिएंट पर ही उपलब्ध है और यह कार से 30 मीटर की दूरी तक ही काम करता है. इसलिए अगर आप एक कैफे में बैठे हैं या अपनी कार की ओर जा रहे हैं, तो उसमें कदम रखने से पहले केबिन को ठंडा करना शुरू कर सकते हैं.

फैसला

iso3mujkमुझे उम्मीद है कि सोनेट की कीमतें रु 7 लाख और रु 12 लाख (एक्स-शोरूम) के बीच होंगी. 
0 Comments

इसमें आईएमटी, डीसीटी, ऑटो और नियमित मैनुअल मिलता है. इसमें दो-टोन या एकल पेंट स्कीम भी हैं. दो ट्रिम लाइने हैं और चुनने के लिए दो पेट्रोल और एक डीजल इंजन भी हैं. उसके साथ सारी तकनीक और फीचर जोड़ दें और यह पूरी तरह से लदी हुई कार है. आपको हमें यह बताना होगा कि आप इसके बारे में क्या सोचते हैं, जब तक कि आप यह जानने की कोशिश में चकरा न जाएं कि आपके लिए कौन से वेरिएंट सही रहेगा! मुझे उम्मीद है कि किआ कीमतों को आक्रामक रखेगी और और कार रु 7 लाख के कुछ नीचे शुरू होगी जबकि सबसे महंगे मॉडल रु. 12 लाख (एक्स-शोरूम) तक जाएंगे.

आप जिसमें इंटरेस्टेड हो

नाइ कार मॉडल्स