भारत में नई बाइक और कारें

कोरोनावायरस: महिंद्रा प्रतिदिन 10,000 फेस मास्क बनाने में सहयोग देगी

कोरोनावायरस से लड़ाई में मुंबई की एक स्टार्ट-अप की फेस मास्क बनाने में मदद करेगी कंपनी, शुक्रवार से मुंबई प्लांट में उत्पादन शुरू

फोटो देखें
महिंद्रा मुंबई की एक सैनिटरी नैपकिन बनाने वाली स्टार्ट-अप के साथ मिलकर ये काम करेगी

ऑटोमोबाइल दिग्गज महिंद्रा एंड महिंद्रा कोरोनोवायरस महामारी को लेकर चौतरफा लड़ाई लड़ रहा है. कंपनी पहले से ही अपने प्लांट्स में वेंटिलेटर और फेस शील्ड बनाने पर काम कर रही है. साथ ही महिंद्रा के टॉप मेनेजमेंट ने यह भी कहा था कि वे बीमारी के खिलाफ इस लड़ाई में चेहरे का मास्क बनाने की इच्छा रखने वाले किसी भी व्यक्ति की मदद करने को तैयार हैं. पहल के जवाब में मुंबई स्थित एक स्टार्ट-अप सामने आई जो कि सैनिटरी नैपकिन बनाती है.  सरल डिज़ाइन्ज़ नामक इस कंपनी ने महिंद्रा से 3-प्लाई मास्क बनाने के लिए अपनी मशीनों में बदलाव करने के लिए कहा. 4 दिनों में ही महिंद्रा इंजीनियर्स ने इस कॉल का जवाब दिया और मुंबई में महिंद्रा के कांदिवली प्लांट के अंदर अब निर्माण लाइन शुरू हो चुकी है.

dmb9lcq

कंपनी के प्लांट में स्थापित इस लाइन का उद्घाटन गुरुवार को महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा ने ऑनलाइन किया 

महिंद्रा एंड महिंद्रा के मेनेजिंग डायरेक्टर पवन गोयनका ने ट्विटर पर ये खबर साझा की. उन्होंने कहा कि इन 3-प्लाई मास्क का निर्माण शुक्रवार को शुरू होगा और दस दिनों के भीतर उत्पादन को 10,000 मास्क प्रति दिन करने के लिए तैयार किया जाएगा. उन्होंने यह भी साझा किया कि ये मास्क यूवी स्टेरेलाइज़्ड हैं और इनमें 99.95% बैक्टीरिया फिल्टर करने की दक्षता है. उनके द्वारा मास्क बनाने की प्रक्रिया का एक वीडियो भी साझा किया गया.

स्टार्ट-अप सारल डिज़ाइन्ज़ की संस्थापक सुहानी मोहन ने भी अपने विचार साझा किए कि कैसे महिंद्रा ने उन्हें रिकॉर्ड समय में यह सफलता हासिल करने में मदद की. उन्होंने बताया आनंद महिंद्रा को लिखे अपने पहली ई-मेल से 8 दिनों में ही 3-प्लाई मास्क का उत्पादन शुरू हो गया. हर तरह से सहायक होने के लिए सुहानी ने पूरी महिंद्रा ऑटोमोटिव टीम को धन्यवाद दिया.

0 Comments

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस कठिन समय में यदि आपको बहुत दूर (और तेज़) जाना है, तो आपको एक साथ जाना होगा.