भारत में नई बाइक और कारें

मारुति सुज़ुकी गुरुग्राम से हटाकर हरियाणा में दूसरी जगह शुरू करेगी नया प्लांट

language dropdown

मारुति सुज़ुकी अपने गुरुग्राम प्लांट को दूसरी जगह शुरू करने वाली है जिसके लिए कंपनी हरियाणा में नई ज़मीन ढूंढ रही है. जानें किस जगह को मिली प्राथमिकता?

expand फोटो देखें
नए प्लांट को हरियाणा में ही स्थापित किया जाएगा

मारुति सुज़ुकी अपने गुरुग्राम प्लांट को दूसरी जगह शुरू करने वाली है जिसके लिए कंपनी हरियाणा में नई ज़मीन ढूंढ रही है. पहले कंपनी ने कहा था कि इस प्लांट को दूसरे राज्यों में ले जाने पर भी विचार किया जा रहा है, वहीं अब मारुति के चेयरमैन आर सी भार्गव ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए अपने वक्तव्य में कहा है कि नए प्लांट को हरियाणा में ही स्थापित किया जाएगा. हरियाणा सरकार ने भी पहले से मारुति को गुरुग्राम प्लांट के एवज में अलग-अलग तीन जगहों पर ज़मीन देने की पेशकश की है.

fks8c3nsमानेसर भारत का सबसे बड़ा वाहन और वाहन के पुर्ज़े बनाने वाला क्लस्टर है

रिपोर्ट की मानें तो नई ज़मीन मारुति के मानेसर स्थित मुख्य प्लांट के नज़दीक, सोहना और सोनीपत के खरखौदा में हैं. इन तीन विकल्पों में से कंपनी ने सोहना वाली ज़मीन को भूमिगत जलस्तर अधिक होने के चलते हटा दिया है. जहां खरखौदा में कंपनी को ज़्यादा बड़ा प्लॉट दिया जा सकता है, वहीं मानेसर में प्लांट बनने से कंपनी का मुख्य प्लांट इसके नज़दीक होगा जिससे ये सहायकों और सप्लायर्स की पहुंच में आसानी से आ जाएगा. मानेसर प्लांट भारत का सबसे बड़ा वाहन और वाहन के पुर्ज़े बनाने वाला क्लस्टर है और यहां मारुति सुज़ुकी को 600 एकड़ का प्लॉट दिया जा रहा है जो फिलहाल गुरुग्राम में मिली 300 एकड़ ज़मीन से लगभग दोगुनी है.

ये भी पढ़ें : मारुति सुज़ुकी ऑल्टो 40 लाख बिक्री का आंकड़ा पार करने वाली देश की पहली कार बनी

maruti suzuki plant manesar fileफिलहाल गुरुग्राम प्लांट सीधे तौर पर 15,000 से ज़्यादा लोगों को रोजगार देता है

गुरुग्राम प्लांट मारुति सुज़ुकी का सबसे पुराना प्लांट है जिसकी स्थापना 39 साल पहले 1981 में की गई थी और इस प्लांट की सालाना उत्पादन क्षमता 7 लाख यूनिट है. कार निर्माता अब उपलब्ध जगह की समस्या से जूझ रही है और इसे उत्पादन में बढ़ोतरी करने के लिए बड़ी ज़मीन की आवश्यक्ता है. फिलहाल गुरुग्राम प्लांट सीधे तौर पर 15,000 से ज़्यादा लोगों को रोजगार देता है, वहीं कई सारे कर्मचारी यहां कॉन्ट्रैक्ट के तहत काम करते हैं.

0 Comments

सोर्स : इकोनॉमिक टाइम्स

लेटेस्ट न्यूज़