भारत में नई बाइक और कारें

अब टाटा सफारी स्टॉर्म होगी इंडियन आर्मी की नई सवारी, मारुति जिप्सी होगी रिटायर

फोटो देखें
टाटा सफारी स्टॉर्म

खास बातें

  • इंडियन आर्मी ने टाटा मोटर्स को 3198 सफारी स्टॉर्म के ऑर्डर दिए हैं
  • मारुति जिप्सी पिछले 25 सालों से भारतीय सेना को सेवाएं दे रही थी
  • टाटा सफारी स्टॉर्म में पावरफुल 2.2-लीटर डीज़ल इंजन लगा है

मारुति जिप्सी पिछले 25 सालों से इंडियन आर्मी को अपनी सेवाएं देती आ रही है लेकिन, अब जल्द ही टाटा सफारी स्टॉर्म उसकी जगह ले लेगी। जल्द ही टाटा सफारी स्टॉर्म, मारुति जिप्सी को रिप्लेस करने वाली है और अब इंडियन आर्मी के अधिकारी और जवान टाटा सफारी स्टॉर्म की सवारी करेंगे। इंडियन आर्मी ने टाटा मोटर्स को 3198 टाटा सफारी स्टॉर्म का ऑर्डर दिया है।

इसके लिए महिंद्रा एंड महिंद्रा ने भी स्कॉर्पियो के लिए बोली लगाई थी, लेकिन टाटा सफारी स्टॉर्म को महिंद्रा स्कॉर्पियो को पीछे छोड़ दिया। इंडियन आर्मी ने सबसे पहले साल 2013 में इसके लिए आवेदन मांगा था जिसके बाद दोनों ही एसयूवी के सेना द्वारा कई टेक्निकल ट्रायल लिए गए। कई ट्रायल के बाद टाटा सफारी स्टॉर्म चुना गया।

टाटा सफारी स्टॉर्म

11.08 लाख * ऑन-रोड प्राइस (नई दिल्ली)
टाटा सफारी स्टॉर्म

टाटा सफारी स्टॉर्म

(टाटा सफारी स्टॉर्म)

मारुति जिप्सी साल 1991 में भारतीय सेना का हिस्सा बनी थी। मारुति जिप्सी को उसकी परफॉर्मेंस और लो-कॉस्ट मेंटेनेंस के लिए जाना जाता था। हालांकि, मारुति जिप्सी की माइलेज काफी कम थी और इसकी वजह से दूर-दराज के इलाकों में इस गाड़ी के साथ कई समस्याएं हो जाती थीं।

टाटा सफारी स्टॉर्म में 2.2-लीटर, 4-सिलिंडर इंजन लगा है जो 154 बीएचपी का पावर और 400Nm का टॉर्क देता है। इस इंजन को 6-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन से लैस किया जाता है। वहीं, इस एसयूवी के लोअर वेरिएंट में लगा इंजन 148 बीएचपी का पावर और 320Nm का टॉर्क देता है। इस इंजन को 5-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन से लैस किया गया है। ये एसयूवी 2x2 और 4x4 ऑप्शन के साथ भी उपलब्ध है जो रेगिस्तान और पथरीले इलाकों में ड्राइविंग के लिए मददगार है।

मारुति जिप्सी

(मारुति जिप्सी)

टाटा मोटर्स ने अभी तक इस डील पर आधिकारिक मुहर नहीं लगाई है लेकिन, बताया जा रहा है कि सेना के लिए तैयार की जाने वाली सफारी स्टॉर्म में कुछ बदलाव किए जा सकते हैं। उम्मीद है टाटा मोटर्स इस बारे में जल्द ही जानकारी मुहैया कराएगी।

आपको बता दें कि फिलहाल 30,000 मारुति जिप्सी सेना को अपनी सेवाएं दे रही हैं जिसे धीरे धीरे सफारी स्टॉर्म से रिप्लेस कर दिया जाएगा। इसके बाद ये देखना होगा कि क्या मारुति सुजुकी, जिप्सी के प्रोडक्शन को जारी रखती है या नहीं?

0 Comments

साभार: ETAuto

कम्पेयर टाटा सफारी स्टॉर्म मौजूदा प्रतिद्वंदियों के साथ

Be the first one to comment
Thanks for the comments.