भारत में नई बाइक और कारें

पिछले एक दशक में हुए सबसे बड़े 19 कार लॉन्च : 2010-2019

2010 में कार कंपनियों को भारत में बढ़ता ऑटो बाज़ार दिखाई दिया था और तब से ही कंपनियों ने हमारे देश में वाहनों को प्रतिस्पर्ध के हिसाब से पेश किया.

फोटो देखें
कंपनियों ने हमारे देश में वाहनों को प्रतिस्पर्ध के हिसाब से पेश किया

2010 में कार निर्माता कंपनियों को भारत में बढ़ता ऑटोमोटिव बाज़ार दिखाई दिया था और तब से ही कंपनियों ने हमारे देश में वाहनों को प्रतिस्पर्ध के हिसाब से पेश किया. इस दौरान कई नई कंपनियों ने भारत में एंट्री की तो कुछ पुरानी कंपनियों ने भारत में अपनी स्थिति को बहुत मजबूत किया, इनमें से कुछ ऐसी भी रहीं जिन्हें मांग में कमी के चलते भारत में अपना काम बंद करना पड़ा. भारतीय बाज़ार में सुपरकार्स हो या सेडान, हैचबैक हो या SUV सबका रास्ता साफ हो गया, यहां तक कि इसकी डिमांड इतनी बढ़ी कि कई कार निर्माता कंपनी तो अब हमारे देश के हिसाब से वाहन लॉन्च करने लगे हैं. अब जब हम अगले दशक में कदम रखने वाले हैं, हम आपको बता रहे हैं 2010 से 2019 के बीच लॉन्च हुई 19 सबसे अच्छी कारों के बारे में.

6hva8fssफोर्ड फीगो ने तेज़ी से भारतीय ग्राहकों के दिल में जगह बनाई

1. फोर्ड फीगो

मार्च 2010 में लॉन्च हुई फोर्ड फीगो ने तेज़ी से भारतीय ग्राहकों के दिल में जगह बनाई. यहां तक कि फोर्ड इंडिया चेन्नई को मॉडल टी के नाम से जाना जाने लगा, क्योंकि ये मॉडल देशी बाज़ार में भारी मात्रा में बेचा गया. फोर्ड फीगो को 1 लाख किलोमीटर तक सिर्फ सस्पेंशन की जांच के लिए चलाया गया जिसमें कच्चे रास्तों पर इसकी भरपूर टेस्टिंग की गई. कंपनी ने फीगो को पेट्रोल और डीजल इंजन में उपलब्ध कराया और इसके साथ रेडियो, ब्लूटूथ कनेक्टिविटी जैसे फीचर्स दिए गए, इसके अलावा ये कार चटक हरे कलर में लॉन्च की गई थी जिसमें ये काफी आकर्षक दिखती थी. फोर्ड ने ये हैचबैक लॉन्च करने के महज़ 5 महीने में ही इसकी 25,000 यूनिट बेचीं और कार की पॉपुलारिटी इतनी बढ़ी कि इसे कम करने में सिर्फ नई जनरेशन मारुति सुज़ुकी स्विफ्ट की सफल हो सकी.

fiat linea 125 s launchफीएट ने लीनिया के साथ भारतीय ग्राहकों को बहुत प्रभावित किया

2. फीएट लीनिया टी-जेट

फीएट ने लीनिया के साथ भारतीय ग्राहकों को बहुत प्रभावित किया. पालिओ और उनो के बाद लीनिया वो कार थी जिसने भारतीय ग्राहकों का दिल जीता, यहां तक कि वो ग्राहक तब और खुश हुए थे जब फीएट ने लीनिया के और भी दमदार वर्ज़न टी-जेट लॉन्च करने का ऐलान किया. लीनिया को कंपनी ने 1.4-लीटर के दमदार टबोचार्ज्ड इंजन से लैस किया जो 113 bhp पावर जनरेट करती थी और इसकी शुरुआती कीमत 10 लाख रुपए से थोड़ी कम थी. दमदार परफॉर्मेंस के अलावा लीनिया 16-इंच के बड़े व्हील्स और 205mm के चौड़े टायर्स के साथ पिछला डिस्क ब्रेक में सामान्य तौर पर उपलब्ध कराई गई. इस कार के ग्राउंड क्लियरेंस को भी 170mm किया गया और कुल मिलाकर किसी भी रास्ते पर चलाने के लिए ये कार बेहतरीन विकल्प के रूप में सामने आई.

2014 skoda yeti lead shotस्कोडा ने येति को 15 लाख रुपए कीमत पर लॉन्च किया था

3. स्कोडा येति

स्कोडा येति भारत में कंपनी की पहली SUV थी और दुनियाभर के सामने पेश की गई कंपनी की पहली SUV भी यही कार रही. इसका उत्पादन कंपनी के ऑरंगाबाद प्लांट में किया गया और उस वक्त ये भारत की सबसे दमदार 4बाय4 SUV बनी थी. स्कोडा ने येति को 15 लाख रुपए कीमत पर लॉन्च किया था जिसे 2.0-लीटर का डीजल इंजन दिया गया जो 140 bhp पावर जनरेट करता था. SUV के 4बाय4 वर्ज़न के इंजन को कंपनी ने 6-स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स से लैस किया था. हाई-प्रेशर डायरेक्ट इंजैक्शन तकनीक से लैस ये कार दमदार परफॉर्मेंस वाली है जो 17.67 किमी/लीटर के प्रभावकारी माइलेज के साथ आती है. जहां स्कोडा ने इस कार की मांग में तेज़ी लाने के लिए इसके फेसलिफ्ट वर्ज़न को भी भारत में पेश किया, हमें लगता है कि ये समय से पहले लॉन्च किया गया एक दमदार विकल्प रही.

107plrasमारुति सुज़ुकी ने तीसरी जनरेशन डिज़ायर 2017 में पेश की

4. मारुति सुज़ुकी स्विफ्ट डिज़ायर

मारुति सुज़ुकी की डिज़ायर सेडान भारत में 2008 से उपलब्ध है लेकिन इसके सबकॉम्पैक्ट मॉडल को 2012 में लॉन्च किया गया. तब टाटा मोटस इस सैगमेंट में इंडिगो ई-सीएस के साथ पहले से अपने पांव जमा चुकी थी, लेकिन मारुति सुज़ुकी ने डिज़ायर के साथ बहुत सारे फीचर्स और कई इंजन विकल्प उपलब्ध कराए जिससे ये कार ग्राहकों द्वारा बहुत पसंद की गई. ये कार 1.2-लीटर के-सीरीज़ पेट्रोल इंजन और 1.3-लीटर डीजल इंजन में उपलब्ध थी, वहीं कंपनी ने कार के टॉप मॉडल के साथ ऑटोमैटिक गियरबॉक्स भी उपलब्ध कराया था. कुछ ही समय में इस कार की बिक्री कई गुना बढ़ गई और एक मायने में सबकॉम्पैक्ट सेडान सैगमेंट में मारुति सुज़ुकी ने कब्जा कर लिया था. मारुति सुज़ुकी ने तीसरी जनरेशन डिज़ायर 2017 में पेश की जिसने इस कार को भारत की सबसे ज़्यादा बिकने वाली सबकॉम्पैक्ट सेडान बनाया और ये बाकी कारों के मुकाबले बड़े अंतर से आगे है.

vw polo gtकंपनी ने इसे 1.2-लीटर के डायरेक्ट इंजैक्शन टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन के पेश किया

5. फोक्सवेगन पोलो जीटी टीएसआई

लोगों के दिमाग में इस बात को लेकर काई शंका नहीं होगी कि फोक्सवेगन पोलो एक शानदार हैचबैक है, तो इसकी और प्रशंसा करने की कोई आवश्यक्ता नहीं है. ऐसे में कंपनी ने हैचबैक के ज़्यादा दमदार वर्ज़न को बाज़ार में उतारा जो 100 bhp से ज़्यादा पावर जनरेट करती है. कंपनी ने पहले किस्मत आज़माई 1.6-लीटर पेट्रोल के साथ जो काफी दमदार थी, लेकिन ग्राहकों को लुभाने में ये कार असमर्थ रही. फिर कंपनी ने इसे 1.2-लीटर के डायरेक्ट इंजैक्शन टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन के पेश किया जो काफी दमदार था और 103 bhp पावर जनरेट करने की क्षमता वाला था. इस इंजन को कंपनी ने 7-स्पीड डीएसजी गियरबॉक्स से लैस किया जो बेहतरीन कॉम्बिनेशन था.

8o0d1chsइसकी शुरुआती कीमत 1.27 करोड़ रुपए रखी गई

6. जगुआर एक्सके-आर

जगुआर इंडिया ने 2012 में भारत में एक्सकेआर स्पेशन एडिशन मॉडल लॉन्च किया जिसे कूप और कन्वर्टिबल विकल्पों में पेश किया गया और इसकी शुरुआती कीमत 1.27 करोड़ रुपए रखी गई. 6 कलर्स में उपलब्ध एक्सकेआर स्पेशल एडिशन के साथ कंपनी ने 5-लीटर का डायरेक्ट इंजैक्शन वी8 पेट्रोल इंजन दिया जो 503 bhp पावर जनरेट करता है और ये इंजन वेरिएबल एडाप्टिव डेंपिंग, इलैक्ट्रॉनिकली कंट्रोल्ड एक्टिव डिफरेंशियल और 6-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ पैडल शिफ्टर से लैस था. कंपनी ने इस कार को बहुत सारे फीचर्स से लैस किया और हां दिखने में भी ये कार काफी आकर्षक बनी रही. बता दें कि भारत में लॉन्च की गई सबसे आकर्षक जगुआर कारों में इसका नंबर भी आता है.

ये भी पढ़ें : 2019 में ऑटोमोबाइल जगत की सबसे बड़ी खबरें

honda amaze facelift launchअमेज़ होंडा इंडिया की पहली कार थी जिसे डीजल इंजन में पेश किया गया

7. होंडा अमेज़

जापान की कारमेकर होंडा ने भारतीय बाज़ार के सबकॉम्पैक्ट सेडान सैगमेंट में होंडा अमेज़ के साथ एंट्री की थी जिससे कंपनी की बिक्री में काफी तेज़ी आई थी. पहले समस्या ये थी कि होंडा के कार लाइन-अप में डीजल कारें नहीं थी, लेकिन अमेज़ की एंट्री के साथ कंनी ने ये समस्या भी सुलझा दी. अमेज़ होंडा इंडिया की पहली कार थी जिसे डीजल इंजन में पेश किया गया. होंडा अमेज़ को 90% से ज़्यादा देशी रखा गया जिससे मारुति सुज़ुकी डिज़ायर के मुकाबले में ये कार बराबरी से खड़ी हो पाई. अमेज़ को 1.2-लीटर पेट्रोल और 1.5-लीटर डीजल इंजन में पेश किया गया जो दोनों इंधन के मामले में काफी किफायती रहे. 2018 में आखिरकार कंपनी ने अमेज़ की दूसरी जनरेशन लॉन्च की है और ये अब भी कंपनी की सबसे ज़्यादा बिकने वाली कार बनी हुई है.

j28hcj3इंजन में एल्युमीनियम की जगह कास्ट-आयरन का इस्तेमाल किया

8. फोर्ड एकोस्पोर्ट

फोर्ड एकोस्पोर्ट को पहली बार 2012 ऑटो एक्सपो में पेश किया गया था और उसके कुछ समय बाद ही इसे भारतीय बाज़ार में लॉन्च कर दिया गया. ये सबकॉम्पैक्ट SUV है जिसे तीन इंजन विकल्प - 1.5-लीटर पेट्रोल, 1-लीटर ईकोबूस्ट और 1.5-लीटर डीजल में पेश किया गया. इनमें से इकोबूस्ट ने हमारा खासा ध्यान खींचा. फोर्ड ने इसके इंजन में एल्युमीनियम की जगह कास्ट-आयरन का इस्तेमाल किया जिससे इंजन का वॉर्म-अप टाइम 50% तक बेहतर हो गया. इस इंजन को बहुत आधुनिक तकनीक पर बनाया गया और इसी इनोवेटिव और तकनीकी के चलते कंपनी को इस इंजन के लिए कई बार इंजन ऑफ दी ईयर का खिताब दिया गया. एकोस्पोर्ट को भारत से विदेशी बाज़ारों में भी भेजा जाने लगा और वहां इसकी मांग में काफी तेज़ी देखी गई है. कंपनी जल्द ही इस सबकॉम्पैक्ट SUV की नई जनरेशन लॉन्च करने वाली है और नई एकोस्पोर्ट कैसी होगी ये जानना काफी दिलचस्प होगा.

ts75vlp4लॉन्च के समय कंपनी ने इस कार की कीमत 76 लाख रुपए रखी

9. ऑडी आरएस5

2011 में भारत में लॉन्च हुई सबसे शानदार कारों में एक थी ऑडी आरएस5. ये काफी चौंकाने वाला लॉन्च था क्योंकि कंपनी ने उस वक्त भारतीय बाज़ार में सिर्फ ए7 लॉन्च करने का ऐलान किया था, हालांकि कंपनी ने देश में इस ज़ोरदार कूप को लॉन्च करने की घोषणा की. लॉन्च के समय कंपनी ने इस कार की कीमत 76 लाख रुपए रखी. ऑडी आरएस5 में 4.2-लीटर का दमदार वी8 इंजन लगाया गया जो 450 bhp पावर जनरेट करता है और ये बीएमडब्ल्यू एम3 से 29 bhp ज़्यादा है. जहां ये कार 0-100 किमी/घंटा रफ्तार पकड़ने में सिर्फ 4.6 सेकंड का समय लेती है, कंपनी ने वहीं इसकी टॉप स्पीड 250 किमी/घंटा बताई. ये दो दरवाज़ों वाली ऐसी कूप है जो आपको खड़े होकर इसे निहारने के लिए मजबूर कर देगी, और जब हमने इसे चलाकर देखा तो पाया कि ये कार उस वक्त की सबसे बेहतर कार रही.

h7j15b3cरेनॉ ने डस्टर के साथ दमदार और किफायती डीजल इंजन उपलब्ध कराया

10. रेनॉ डस्टर

भारत में रेनॉ ने डस्टर लॉन्च करने से पहले कोलेओस और फ्लूएंस के ज़रिए असफलता का सामना ही किया था. रेनॉ डस्टर एक SUV थी और देशी बाज़ार में SUV का बोलबाला शुरू हो गया था, ऐसे में रेनॉ के पास इस कॉम्पैक्ट SUV को भारत में लॉन्च करने का इससे अच्छा समय नहीं मिलने वाला था. 9 लाख रुपए कीमत के अंदर रेनॉ ने डस्टर के साथ दमदार और किफायती डीजल इंजन उपलब्ध कराया. रेनॉ ने बेहतर ड्राइव और हैंडलिंग भी डस्टर में उपलब्ध कराई, इसके अलावा हल्का क्लच भी दिया जिससे ड्राइवर्स के लिए इस चलाना काफी आसान बन गया. डस्टर को रेनॉ ने 4बाय4 विकल्प में भी उपलब्ध कराया जो पूरी तरह ऑफ-रोडर ना होकर कच्चे रास्तों के लिए बेहतर SUV बनी.

99aouf3इसकी कीमत 22 लाख रुपए से शुरू होती है

11. बीएमडब्ल्यू एक्स1

बीएमडब्ल्यू भारत में सफलतापूर्वक 3-सीरीज़ बेच रही थी लेकिन जिस कार ने भारत में कंपनी की नींव मजबूत की वो SUV सैगमेंट की बीएमडब्ल्यू एक्स1 थी. इस SUV को कंपनी का उत्पादन कंपनी के चेन्नई प्लांट में किया गया जिससे इसे मुकाबले के हिसाब से कीमत मिली. इसकी कीमत 22 लाख रुपए से शुरू होती है जिसकी सफलता ने छोटे आकार की और भी कई SUV को बाज़ार में आने का न्यौता दिया. ऑडी की क्यू3, मर्सडीज़-बैंज़ की जीएलए और आखिरकार वॉल्वो ने भी एक्ससी40 के साथ इस सैगमेंट में एंट्री की. इस सैगमेंट की बात करें तो एक्स1 पहली छोटे आकार की SUV रही जिसे भारत में लॉन्च किया गया.

renault kwid amtये टॉलबॉय डिज़ाइन की SUV प्रेरित हैचबैक है

12. रेनॉ क्विड

बात 2015 की है जब रेनॉ ने भारतीय बाज़ार में अपनी एंट्री लेवल कार हैचबैक लॉन्च की जो दरअसल हैचबैक जैसी बिल्कुल नहीं है. ये टॉलबॉय डिज़ाइन की SUV प्रेरित हैचबैक है जिसे रेनॉ क्विड नाम से भारत में लॉन्च किया गया. ये कंपनी की बिक्री बढ़ाने में सफल रही और भारी मात्रा में बिकी. रेनॉ पहले ही देश में कार की 3 लाख से ज़्यादा यूनिट बेच चुकी है और क्विड फेसलिफ्ट की मदद से इस आंकड़े में और सुधार का अनुमान है. क्विड का मुकाबला मारुति सुज़ुकी ऑल्टो से है जो सालों से भारत की सबसे ज़्यादा बिकने वाली कार बनी हुई थी और जिसने भारी मात्रा में ग्राहकों का दिल जीता. हालांकि ये कार सुरक्षा के मामले में काफी पिछड़ चुकी है. ये कार फिलहाल दो पेट्रोल इंजन और एएमटी गियरबॉक्स के साथ बाज़ार में उपलब्ध है. यहां तक कि इस कार ने कई कंपनियों को इस किस्म की कार बाज़ार में लाने का लालच दिया जिसमें टाटा टिआगो और मारुति सुज़ुकी एस-प्रेसो शामिल हैं.

ये भी पढ़ें : 2019 में हुए 9 सबसे बड़े कार लॉन्च

maruti suzuki vitara brezza priceमारुति सुज़ुकी ने इस कार को सिर्फ डीजल इंजन में उपलब्ध कराया

13. मारुति सुज़ुकी विटारा ब्रेज़ा

मारुति सुज़ुकी ने विटारा ब्रेज़ा के साथ सबकॉम्पैक्ट SUV सैगमेंट में अपने पांव पसारे. ये उस वक्त एकोस्पोर्ट का इकलौता मुकाबला बनी. मारुति सुज़ुकी ने इस कार को सिर्फ डीजल इंजन में उपलब्ध कराया और पेट्रोल इंजन जल्द लॉन्च किए जाने का वादा भी किया. हालांकि आज तक कंपनी ने इसे पेट्रोल इंजन में लॉन्च नहीं किया है. विटारा ब्रेज़ा के साथ कंपनी ने कस्टमाइज़ेशन और पर्सनलाइज़ेशन के रास्ते भी खोले. ब्रेज़ा टू-टोन कलर में पेश की गई जिससे इसका वेटिंग पीरियड बढ़कर 8 महीने हो गया था. विटारा ब्रेज़ा अब भी बहुत बड़ी मात्रा में बेची जा रही है, लेकिन इसका पेट्रोल वर्ज़न अब भी बाज़ार से नदारद है.

00fc446oजीप कम्पस भारत में कंपनी की सबसे सस्ती कॉम्पैक्ट SUV बन गई है

14. जीप कम्पस

जीप इंडिया तबतक सीमित संख्या में वाहन बेच रही थी जबतक कंपनी ने कॉम्पैक्ट SUV सैगमेंट में जीप कम्पस के साथ एंट्री नहीं की थी. अब जीप कम्पस भारत में कंपनी की सबसे सस्ती कॉम्पैक्ट SUV बन गई है जिसकी कीमत 15 लाख रुपए रखी गई है. जीप ने कम्पस को पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन में पेश किया है जो ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन में भी उपलब्ध कराई गई है. 4बाय2 और 4बाय4 विकल्पों में उपलब्ध ये ऑफ-रोडर बिक्री के मामले में कंपनी की आंख का तारा बन गई है और कंपनी ने विदेशी बाज़ार में इस SUV का निर्यात भी भारत से ही शुरू किया है. भले ही इस सैगमेंट की बाकी कारों के मुकाबले जीप कम्पस की कीमत थोड़ी ज़्यादा है, लेकिन ब्रांड के हिसाब से बहुत सारे ग्राहकों के लिए ये कॉम्पैक्ट SUV पैसा वसूल बन चुकी है.

5a4s10cgये हैचबैक पेट्रोल और डीजल दोनों किस्म के इंजन में उपलब्ध है

15. टाटा टिआगो

टाटा मोटर्स लंबे समय तक हैचबैक सैगमेंट में बिक्री को लेकर जूझती रही जिसमें इंडिका की बढ़ती उम्र और विस्टा की गिरती डिमांड शामिल थी. कंपनी ने पीछे मुड़कर इसकी गिरती मांग का कारण जाना तो पाया की बाज़ार में इंडिका से कम दमदार और छोटी कार की ज़रूरत है. इसके अलावा टाटा मोटर्स ने कभी नैनो और इंडिका के बीच की जगह भरी नहीं थी. ऐसे में कंपनी ने टाटा टिआगो बाज़ार में उतारने का प्लान बनाया. ये हैचबैक पेट्रोल और डीजल दोनों किस्म के इंजन में उपलब्ध है जिसे एएमटी गियरबॉक्स के साथ बाद में उपलब्ध कराया गया. टाटा टिआगो में काफी सारे फीचर्स, प्लश इंटीरियर और बेहतर राइड और हैडलिंग दी गई जो टाटा कारों में लंबे समय से नदारद थी.

tata nexon amt hyprdriveइसे वैश्विक स्तर पर जो सराहना मिली है वो तारीफ के काबिल है

16. टाटा नैक्सॉन

भारत का सबकॉम्पैक्ट SUV सैगमेंट बहुत सारी कारों से भरा पड़ है और इसके बीच टाटा का उत्पाद नैक्सॉन है. सबकॉम्पैक्ट SUV कंपनी की अच्छी कार मानी गई है, लेकिन इसे वैश्विक स्तर पर जो सराहना मिली है वो तारीफ के काबिल है. टाटा मोटर्स ने इस SUV के साथ काफी बेहतर प्रदर्शन किया, वहीं हमारा मानना है कि इस कॉम्पैक्ट SUV की राइड और हैंडलिंग को ज़्यादा स्पोर्टी बनाया जा सकता था. लॉन्च के कुछ समय बाद ही कंपनी ने इसे पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन में उपलब्ध कराया और इसके बाद ग्लोबल एनसीएपी टेस्ट में इस कार को सुरक्षा के लिए 5-स्टार रेटिंग दी गई जो अपने-आप में गर्व की बात है. ये भारत की पहली कार है जिसे ग्लोबल एसीएपी ने 5-स्टार रेटिंग से नवाज़ा है. बता दें कि टाटा नैक्सॉन का पूरी तरह इलैक्ट्रिक वेरिएंट भी भारत में जल्द ही लॉन्च किया जाने वाला है.

u3u8op2cफिलहाल महिंद्रा की मराज़ो सिर्फ डीजल इंजन में उपलब्ध है

17. महिंद्रा मराज़ो

महिंद्रा कुछ समय तक एमपीवी सैगमेंट पर नज़र बनाए हुए थी और बाद में कंपनी ने महिंद्रा मराज़ो लॉन्च की जिसने ज़ायलो की जगह ली और 7-सीटर की ये कार कंपनी के लिए सफलता की नई सीढ़ी बनी. महिंद्रा मराज़ो भारत में कंपनी के नए ऐरा को लेकर आई जिसमें शानदार प्लास्टिक क्वालिटी, अच्छा स्पेस और आसानी से चलाया जाने वाला वाहन पेश किया गया. फिलहाल महिंद्रा की मराज़ो सिर्फ डीजल इंजन में उपलब्ध है और इसका पेट्रोल इंजन और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स वाला वेरिएंट जल्द ही बाज़ार में पेश किया जाएगा. मराज़ो भारत की पहली एमपीवी है जिसे ग्लोबल एनसीएपी ने सुरक्षा के लिए 4-स्टार रेटिंग दी है.

00tk2ic8वेन्यू सबकॉम्पैक्ट SUV सैगमेंट की पहली कनेक्टेड कार बनी

18. ह्यूंदैई वेन्यू

ह्यूंदैई मोटर इंडिया ने सबकॉम्पैक्ट SUV सैगमेंट में अपनी दिलचस्पी तक दिखाई, जब कंपनी ने 2016 ऑटो एक्सपो में कारलिनो कॉन्सेप्ट शोकेस किया. इस सबकॉम्पैक्ट SUV को ह्यूंदैई वेन्यू नाम से इस साल की शुरुआत में लॉन्च किया गया है जो सैगमेंट की काफी ज़्यादा बिकने वाली कारों में एक है. ह्यूंदैई वेन्यू सबकॉम्पैक्ट SUV सैगमेंट की पहली कनेक्टेड कार बनी जिसे कंपनी ने ब्ल्यूलिंक तकनीक से लैस किया है. ह्यूंदैई इंडिया ने वेन्यू को दो पेट्रोल और एक डीजल इंजन विकल्प में लॉन्च किया है जो मैन्युअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ लॉन्च की गई है.

9itrklo8नवंबर 2019 में लॉन्च हुई सेल्टोस की कंपनी ने अबतक 40,000 यूनिट बेच ली हैं

19. किआ सेल्टोस

0 Comments

किआ की भारत में पहली कार सेल्टोस SUV है जिसके लिए कंपनी ने भारी मात्रा में निवेश भी किया है. अब मेहनत और निवेश का परिणाम ग्राहकों की प्रतिक्रिया से आ रहा है. नवंबर 2019 में लॉन्च हुई सेल्टोस की कंपनी ने अबतक 40,000 यूनिट बेच ली हैं और सिर्फ नवंबर में ही किआ सेल्टोस की 7,000 यूनिट बिकी हैं. सेल्टोस एक कनेक्टेड कार है जिसे कंपनी ने आधुनिक तकनीक से लैस किया है. किआ ने सेल्टोस में कोई कमी बाकी नहीं रहने दी है और भारत में इसे कई सारे पेट्रोल और डीजल इंजन विकल्पों में उपलब्ध कराया है जो मैन्युअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स से लैस किए गए हैं. किआ सेल्टोस के साथ किआ मोटर्स ने भारत में ज़ोरदार एंट्री की है और हम कंपनी के अगले उत्पादों के बारे में जानने के लिए काफी उत्सुक हैं.

Be the first one to comment
Thanks for the comments.