भारत में नई बाइक और कारें

टाटा मोटर्स की नई पहल, कारों की डिलिवरी होगी पूरी तरह सपंर्क रहित

ग्राहकों को सुरक्षित रखने के लिए टाटा मोटर्स की तरफ से नया वाहन पूरी तरह सेनिटाइज़ करके सौंपा जाएगा. जानें ग्राहकों के लिए लाभकारी है टाटा की नई पहल?

expand फोटो देखें
टाटा मोटर्स ने देशभर की टाटा डीलरशिप पर ग्राहकों की अधिक सुरक्षा के लिए नई पहल छेड़ी है

सबसे बड़ी भारतीय कार निर्माताओं में एक टाटा मोटर्स ने देशभर की टाटा डीलरशिप पर ग्राहकों की अधिक सुरक्षा के लिए नई पहल छेड़ी है जिसे ‘सेनिटाइज़्ड बाय टाटा मोटर्स' नाम दिया गया है. इसमें ग्राहकों को सुरक्षित रखने के लिए टाटा मोटर्स की तरफ से नया वाहन पूरी तरह सेनिटाइज़ करके सौंपा जाएगा. इसमें वाहन को सेनिटाइज़ करने के बाद सेनिटाइज़्ड बाय टाटा मोटर्स का लेबल चिपकाया जाएगा जो इस बात की पुष्टि करेगा कि ग्राहक को वाहन सुपुर्द करने तक टाटा डीलरशिप के किसी भी सदस्य ने नए वाहन को हाथ भी नहीं लगाया है. यहां तक कि ग्राहक को कार की चाबी भी सेनिटाइज़ करके खासतौर पर चाबी के लिए बनाए गए डब्बे में डालकर दी जाएगी.

tata logo 827कार की चाबी भी सेनिटाइज़ करके डब्बे में डालकर दी जाएगी

टाटा मोटर्स की पैसेंजर वाहन व्यापार के मार्केटिंग हेड, शशांक श्रीवास्तव ने कहा कि, "टाटा मोटर्स में पूरे समय हमारी पहली प्राथमिकता ग्राहकों और कर्मचारियों की सुरक्षा हेती है. इसके लिए हम टाटा मोटर्स की डीलरशिप और सर्विस सेंटर्स में ज़्यादा से ज़्यादा सुरक्षा बरत रहे हैं जिससे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके और ग्राहकों से सुरक्षित दूरी भी बनी रहे. सेनिटाइज़्ड बाय टाटा मोटर्स पहल की सहयता से हम अपने ग्राहकों के बीच विश्वास को चरम पर लाना चाहते हैं, जिसमें वो निश्चिंत होकर ये सोच सकें कि टाटा मोटर्स के साथ वो पूरी तरह सुरक्षित हैं."

ये भी पढ़ें : टाटा की नई 7-सीटर ग्राविटास एकबार फिर दिखी, त्योहारों के सीज़न में होगी लॉन्च

0 Comments

इसके अलावा सभी टाटा डीलरशिप द्वारा ग्राहकों से संपर्क और पूछ-ताछ के अलावा सभी किस्म की बातें डिजिटल माध्यम से वर्चुअल तौर पर की जा रही हैं, ऐसे में अगर ग्राहक से मिलना आवश्यक है तो इसके लिए पहले से समय तय किया जा रहा है और सुरक्षा के सभी ज़रूरी कदम उठाकर मुलाकत की जा रही है. वाहन खरीद में सभी दस्तावेज़ों और लेन-देन का काम ईमेल के द्वारा किया जाएगा और तमात औपचाकिताएं पूरी होने के बाद वाहन के दस्तावेज़ों को ड्रॉपबॉक्स की मदद से उपलब्ध कराया जाएगा. इन सबके अलावा टेस्ट ड्राइव ग्राहक की मांग पर ही मुहैया कराई जा रही है और एक समय पर सिर्फ एक व्यक्ति टेस्ट ड्राइव लेगा जबकि डीलरशिप से भी सिर्फ एक ही व्यक्ति मौजूद होगा.

लेटेस्ट न्यूज़

Be the first one to comment
Thanks for the comments.