carandbike logo

अब नही लेना होगा नए वाहनों के लिए लंबे समय का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस

1 अगस्त, 2020 से नई कारों और दोपहिया वाहनों के लिए 3 साल या पांच साल का बीमा कराने की ज़रूरत नहीं होगी.

इस फैसले से नए वाहनों की ऑन-रोड कीमतों में कमी आने की उम्मीद है expand फोटो देखें
इस फैसले से नए वाहनों की ऑन-रोड कीमतों में कमी आने की उम्मीद है

इंश्योरेंस रेगुलेटरी और डेवेपलमेंट अथॅरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) ने ऐलान किया है कि 3 और 5 साल के लंबी अवधि वाले मोटर इंश्योरेंस पैकेज प्लान को वापस ले लिया गया है, इनमें थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के साथ खुदकी वजह से क्षति शामिल है. 1 अगस्त 2020 से इस नए नियम को लागू किया जाएगा. ग्राहकों और कंपनियों के कई मुद्दों और चिंताओं को ध्यान में रखते लंबे समय की बीमा पैकेज नीति को वापस लेने का फैसला किया गया है.

motor insurance

आईआरडीएआई ने कहा कि ऐसी पॉलिसी ग्राहकों पर बोझ होगी जिसमें  खराब सर्विस मिले

सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के बाद सितंबर 2018 में नए बीमा नियम लाए गए थे जिसमें नई कारों और दोपहिया वाहनों के लिए तीन साल की थर्ड-पार्टी नीतियों को जारी करने का निर्देश दिया गया था. लेकिन कुछ ऐसे कारण सामने आए जिनके चलते अब नियमों को दोबारा बदलना पड़ा है. इसमें लंबे समय के लिए वाहन का सही मूल्यांकन का हिसाब न लगा पाना, लोगों का समय से पहले ही वाहन बेच देना और लोन न चुका पाना शामिल है.

यह भी पढ़ें: करोनावायरस: वित्तिय साल 2020-21 में नहीं बढ़ेंगे वाहनों के थर्ड पार्टी प्रीमियम

jlr showroom in coimbatore

इससे पहले 3 साल और 5 साल के लंबी अवधि वाले थर्ड पार्टी इंश्योरेंस मोटर इंश्योरेंस लेने होते थे

आईआरडीएआई ने आगे कहा कि ऐसी पॉलिसी ग्राहकों पर बोझ होगी अगर उन्हें खराब सर्विस मिले या नो क्लेम बोनस का आंकलन सही से ना हो. इसके चलते पॉलिसीधारकों में भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती थी. IRDAI ने बीमा कंपनियों से 1 सितंबर, 2019 से वाहनों के लिए स्टैंडअलोन स्वयं क्षति बीमा देने के भी कहा है, क्योंकि थर्ड-पार्टी का हिस्सा पहले से ही तीन या पांच साल की नीति के तहत कवर किया गया था. कोरोनावायरस महामारी के इस दौर में इस नए फैसले से वाहनों की कीमतों में कमी आएगी जो कि ग्राहकों के लिए एक अच्छी ख़बर है.

0 Comments

आप जिसमें इंटरेस्टेड हो

नाइ कार मॉडल्स

Be the first one to comment
Thanks for the comments.